Sunday, March 9, 2014

R.K. Singh आर. के. सिंह


walking over
a carpet of dried leaves
hears own footsteps

सूखे पत्तों के कालीन पर
चलते हुए
सुन रहा अपने पैरों की आवाज़






the full moon
behind a bare tree -
branches curve

पूर्ण चंद्रमा
एक नंगे पेड़ के पीछे -
टहनियाँ मुड़ गईं





hanging
by a spider's thread -
the wanton leaf

लटक रहा
एक मकड़ी के धागे से -
मनमौजी पत्ता





going drowsily
milk can in hand -
morning walk

ऊँघता जा रहा
दूध की कैनी हाथ में लिये -
सुबह की सैर





sea waves
roll from faraway
white peaks

समुद्री लहरें
दूर के श्वेत पर्वतों से
पलट कर आ रहीं




-R.K. Singh / आर. के. सिंह

R. K. SINGH has been writing and publishing haiku and tanka in English for the last 25 years.

No comments:

Post a Comment