Sunday, March 9, 2014

Philip Noble फिलिप नोबल


Bitter winter wind
bending people and branches
forward and backward

शीत की कठोर हवा
झुका रही लोगों और टहनियों को
आगे और पीछे





profound darkness
punctured by
distant dog howls

गहरा अन्धकार
छिद्रित हुआ
दूरस्थ कुत्तों के रोने से





sunset calm
doubles the number
of bridges

सूर्यास्त की शांति
दुगना कर देता है
सेतुओं की संख्या को





pruned tree
one leaf left
for autumn

कटा-छटाँ पेड़
एक ही पता रह गया
पतझड़ के लिये






young Buddhist monk
explains how to pray properly
cherry blossom waits

तरुन बौद्ध योगी
समझा रहा प्रार्थना कैसे करते हैं
चेरी के फूल प्रतीक्षा कर रहे




-Philip Noble / फिलिप नोबल

Philip Noble is a rector/evangelist in the Episcopal Church in Scotland with an abiding interest in creative play, visual story telling and related topics of sting figures and origami.

No comments:

Post a Comment