Sunday, January 19, 2014

Vinay R

ink puddle -
the words that
never were

स्याही का धब्बा-
वह शब्द जो
थे ही नहीं





morning glory -
a blue sky
shivers awake

मॉरनिंग गलौरी-
एक नीला आसमान
ठिठुर कर उठा






onions...
I feel her absence
cutting through

प्याज -
उसके जाने की यादें
मुझे काट रही





morning mist...
the tattered blanket
on a park bench

सुबह की धुंध
पार्क की बैंच पर
चिथड़ा कम्बल





unfinished
in early darkness
a robin's nest

अधूरा ही
अंधकार में
एक रॉबिन का घोंसला





photo album -
behind a film of dust
smiles innocence

फोटो एलबम-
धूल के पीछे से
भोलापन मुस्करा रहा





between him
and the grey sky...
tattered raincoat

स्लेटी आकाश
और उसके बीच में-
चिथड़ा रेनकोट





shaping dreams...
the potter's hand on his
wheel of fortune

स्वप्न सजा रहा.......
कुम्हार अपने हाथों से अपने
किस्मत के पहिये पर






swaying oak -
afternoon tea
in the cellar

झूमता ओक-
दोपहर की चाय
बेसमेंट में






first beach visit
the grains of sand
that stood still

पहली बार तट पर
वह रेत के कण
जो स्थिर खड़े रहे





blue -
the ocean lies
in my inkpot

नीला-
समुद्र लेटा हुआ
मेरी स्याहीपात्र में

-vinay.r

No comments:

Post a Comment