Saturday, November 9, 2013

Manuela Miga मैन्यूएल्ला मीगा

a pure spring bubbles
farther, the ocean's roar -
an old man sighs

शुद्ध झरना बुलबुला रहा
दूर से समुद्र की दहाड़ -
एक बूढ़ा आदमी आहट लेता है




irises perfume -
the peacock cry
prolonging the instant

आइरिस की सुगन्ध -
मोर की पुकार
लम्बा कर रही इस क्षण को




standing still -
gazing at the waterfall
of the old weeping willow

स्थिर खड़ी हुई
देख रही चश्मे को
वीपिंग विलो के




late winter -
the core of cabbage
still so fresh

शीतकाल का अन्त-
बन्द गोभी का कोर
अभी भी इतना ताज़ा




the stars seems so close -
the soldier's rifle lying
in the grassy field

तारे इतने पास लगते हैं-
सिपाही की बन्दूक पड़ी है
घास के मैदान में

Since 1991, she published haiku in Romania, Japan, USA, Great Britain, France, Canada etc. and haiku, tanka, tanrenga, rengay, renku, haibun and essays and theoretical articles in Romania.

No comments:

Post a Comment