Sunday, October 6, 2013

Vishnu Kapoor विष्णु कपूर

the morning -
what does it ask the birds
such sweet replies

सुबह -
क्या पूछती है पक्षियों को
कितने मीठे प्यारे उत्तर




rose bush thorns -
only flowers
wilt

गुलाब की झाड़ी के काँटें -
केवल फूल
मुरझाते हैं




winter -
only pale light from candle
no warmth

शीतकाल -
मोमबत्ती से केवल फीका प्रकाश
कोई उष्णता नहीं



full moon -
open bed room window
she covers herself

पूर्ण चंद्रमा -
सोने के कमरे की खुली खिड़की
वह अपने आप को ढक लेती है




old moutain shrine -
inside the large bell
cobwebs

पुरानी पहाड़ी पूजास्थल
बड़े घंटे के अंदर
मकड़ी के जाले


Vishnu Kapoor is a retired Air Force officer,a widower at 67yrs;deeply interested in literature especially poetry.

No comments:

Post a Comment