Tuesday, October 8, 2013

John Stevenson जॉन स्टीवेंसन

a few leaves
left on the tree
we have our talk

थोड़े से पत्ते
रह गये पेड़ पर
हम अपनी बात करते हैं



hope
without knowing what for
autumn colors

आशा
बिना जाने यह किस लिए है
पतझड़ के रंग




old slippers
the comfort
coming apart

पुरानी चप्पल
वह आराम
अलग हो रहा



winter beach
a piece of driftwood
charred at one end

सर्दी का तट
अपवाहित काष्ठ का एक टुकड़ा
एक ओर से जला हुआ



a deep gorge
some of the silence
is me

एक गहरी खाई
कुछ खामोशी
हूँ मैं


John Stevenson : Former President of the Haiku Society of America (2000) and editor of Frogpond (2005- 2007), is currently the managing editor of The Heron’s Nest.



No comments:

Post a Comment